November 19, 2018

बच्चों में तनाव को काम करने के लिए गुरु शिखाएगे योग

मुजफ्फरनगर।उत्तर प्रदेश में उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा अभियान रमसा योजना के अंतर्गत आर्ट ऑफ लिविंग व्यक्ति विकास केंद्र बच्चों को तनाव मुक्त पढ़ाई के लिए योग से जोड़ कर उन्ंहें उत्साहवर्धन करेगा उत्तर प्रदेश के 1200 राजकीय माध्यमिक हाईस्कूल व इंटर कॉलेजों में योग सिखाने का जिम्मा उत्तर प्रदेश सरकार ने आर्ट ऑफ लिविंग को दिया है आर्ट ऑफ लिविंग इस कार्यक्रम की   प्रदेष की योग कोऑर्डिनेटर आर्ट ऑफ लिविंग की वरिष्ठ प्रशिक्षिका व देष की जानी मानी योग मॉडल सोनिया लूथरा उत्तर प्रदेश का कोऑर्डिनेटर बनाकर बड़ी जिम्मेदारी दी है उन्होंने बताया कि आर्ट ऑफ लिविंग बच्चों को योग सिखाने के लिए   पूरे प्रदेष मे पूरी  व्यूह रचना तैयार कर ली है और जल्दी ही उनके नेतृत्व में आर्ट ऑफ लिविंग की टीम  प्रदेष के 1200 स्कूलो मे गांव.गांव जाकर स्कूलों में बच्चों को योग सिखाएगी इससे की बच्चे पढ़ाई में मजबूत हो और ध्यान लगे मुजफ्फरनगर में  भी सोनिया लूथरा के नेतृत्व में इस कार्यक्रम की शुरुआत हो चुकी है ।
 अकेले मुजफ्फरनगर में ही करीब 23 स्कूलों में योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा  सोनिया लूथरा ने जानकारी देते हुए बताया कि पुरकाजी पुरकाजी विकासखंड के गांव हरिनगर तेजल हेडा, कासमपुर, जानसठ विकासखंड के हुसैनपुर संभल हेड़ा जंधेरी  तिसग खतौली विकासखंड के बडसू नावला भैसी बधरा के गांव कुटबी चरथावल विकासखंड के रोनी हाजीपुर मोरना विकासखंड के रसूलपुर बुढाना विकासखंड के अटाली मोहम्मदपुर रायसिंह अलीपुर अटेरना शाहपुर विकासखंड के जीवना अटाली राजकीय इंटर गर्ल्स कॉलेज सिसोली सदर विकासखंड के जट मुझेड़ा रई वह शहर के राजकीय इंटर कॉलेज में योग सिखाने की आर्ट ऑफ लिविंग ने तैयारी कर ली है इसके लिए आर्ट ऑफ लिविंग ने 100 से भी अधिक अपने अनुयायियों की टीम बनाई है जो डेढ़ से 2 महीने विद्यालय में उपस्थित होकर शेड्यूल के अनुसार बच्चों को योग शिक्षा देंगे और इन बच्चों में कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों को फोकस किया जाएगा इनको जीवन जीने की कला बताई जाएगी साथ ही जो बच्चे इस बार बोर्ड परीक्षाओं में कक्षा 10 और 12 की परीक्षाएं देंगे उनके लिए विशेष योग प्रशिक्षण दिया जाएगा बच्चों को तनाव मुक्त होकर जीवन में परीक्षाओं को कैसे जीता जाता बताया जायेगा बताया जाएगा कि तनाव मुक्त होकर जीवन में परीक्षाओं को कैसे जीता जाता है और कैसे सफल हुआ जाता है बच्चों को परीक्षाओं में अपने खानपान पर ध्यान देना चाहिए और परीक्षा के दौरान किस तरह की दिनचर्या हो स्मरण शक्ति योग ध्यान सुदर्शन क्रिया भ्रस्तिका सूर्य पर सूर्य नमस्कार आदित्य किस तरह से हम बेहतर कर सकते हैं इसको आर्ट ऑफ लिविंग की टीम उत्तर प्रदेश के 1200 से स्कूलों में जा जा कर बताएगी सोनिया लूथरा ने बताया कि मुजफ्फरनगर में इसके लिए आर्ट ऑफ लिविंग की पूरी टीम की कई बार बैठेके कर चुकी हैं एक.दो दिन में इस को धरातल पर उतर जाएगा इस पूरे कार्यक्रम की मॉनिटरिंग खुद सोनियाउत्तर प्रदेश में हर जिले में घूम घूम करे यही नहीं जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय रमशा कार्यालय के साथ भी तालमेल बैठा कर इस कार्यक्रम को उत्साह के साथ पूरा किया जाएगा राजकीय इंटर कॉलेजों के प्रिंसिपल जिला विद्यालय निरीक्षक प्रत्येक जिले के रमसा कोऑर्डिनेटर भी योग के महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट पर खारक बच्चों के हित को देखते हुए इसको पूरा करेंगे सोनिया ने  बताया कि उत्तर प्रदेश  सरकार ने आर्ट आफ लिविग को यह दायित्व सौपा है यह अपने आप में एक बहुत बड़ा प्रोजेक्ट है और उसकी जिम्मेदारी यू0 पी0 उन्हें कोडिनेटर बनाकर दी गई है। इसी के साथ खतौली विकासखंड में राजकीय कन्या इंटर कॉलेज बांसी का भी चयन योग सिखाने के लिए किया गया है वही शहर के पुराने प्रमुख इंटर कॉलेज राजकीय इंटर कॉलेज सर्कुलर रोड पर भी योग सिखाया जाएगा आर्ट ऑफ लिविंग की टीम अपने पूरे जोश के साथ इन विद्यालयों में सुबह सवेरे जाकर शासकीय स्कूल आर्ट ऑफ लिविंग के मॉड्यूल के अनुसार बच्चों के योग सिखाया गए योग प्रशिक्षण देंगे परीक्षा के लिए उनकी काउंसलिंग करेंगे उनकी दिनचर्या व्यवस्थित कैसी हो इसके लिए विस्तार से बताएंगे उनके सवालो के जवाब देंगे योग शुरू होने से पहले विद्यालय में जाकर प्रशिक्षक स्टाफ के साथ एक मीटिंग करेंगे और उन्हें अपने उद्देश्यों के बारे में बताएंगे बता दे की राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के अंतर्गत पहली बार राजकीय हाईस्कूल इंटर कॉलेजों में योग सिखाने की है योजना बड़े पैमाने पर आर्ट ऑफ लिविंग को उत्तर प्रदेश में मिली है आर्ट ऑफ लिविंग अपने ोग सिखाने के लिए मानदेय भी
कार्यकर्ताओं को योग सिखाने के लिए मानदेय भी देगी इस योग प्रशिक्षण कार्यक्रम की मॉनिटरिंग भी बहुत सख्त होगी इसमें प्रतिदिन की उपस्थिति फोटो व अन्य जानकारियां इकट्ठा की जाएगी और उनकी जानकारी  शिक्षा विभाग  डी आई ओ एस को भी देनी होगा जब यह एक काम विद्यालय पूरा हो जाएगा उसके बाद को राजकीय इंटर कॉलेज व हाई स्कूल के प्रधानाचार्य यह प्रमाणित करेंगे कि आर्ट ऑफ लिविंग के योग प्रशिक्षकों ने यहां अपना कोर्स सजगता के साथ पूरा कराया उसके बाद जिले के जिला विद्यालय निरीक्षक इन फार्मो पर अपनी निगरानी में काउंटर साइन करेंगे और उसके बाद आर्ट ऑफ लिविंग अपने कार्यकर्ताओं को भुगतान करेगी बता दें कि आर्ट ऑफ लिविंग इस कार्य के लिए अपने कार्यकर्ताओं को एक स्कूल के लिए साढे सात हजार रुपए का मानदेय देने जा रही।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *