November 19, 2018

आखिरकार उठ गया ‘पद्मावत’ से पर्दा

नई दिल्ली । विवादों के बीच संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ से पर्दा उठ गया है। सिनेमाघरों में कड़े पहरे के बीच फिल्म  को रिलीज किया गया है। विरोध के बावजूद लोगों में डर देखने को नहीं मिल रहा है, कई जगह फिल्म का शो हाउसफुल भी है। हालांकि, भाजपा शासित 4 राज्यों में इसे नहीं दिखाया जा रहा है। इन राज्यों के एक भी मल्टीप्लेक्स में फिल्म का शो नहीं हुआ। फिल्म भले ही रिलीज हो गई हो, लेकिन फिल्म पर नेताओं की सियासत और करणी सेना का उपद्रव जारी है

 

पद्मावत मामले मे सुप्रीम कोर्ट मे करणी सेना और राज्यों के खिलाफ अवमानना याचिका दाखिल हुई है। इस मामले में कोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग की गई है। जिसके बाद सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद करणी सेना का विरोध प्रदर्शन जारी है। कई जगह हिंसक झड़पें हुई हैं। बसों को आग के हवाले कर दिया गया है। सिनेमाघरों में आगजनी की खबरें भी सामने आईं हैं। राज्य सरकार इनसब को रोकने के नाकामयाब साबित हुई है।

 

 

पद्मावत रिलीज पर नेताओं की सियासत भी जारी है। कोई भी पार्टी अपने वोट बैंक के साथ समझौता करना नहीं चाहती। हालांकि भाजपा शासित राज्यों में फिल्म न दिखाए जाने को लेकर कांग्रेस ने भाजपा को निशाने पर लिया है। पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुग्राम में बच्चों की बस पर हुए हमले के बहाने भाजपा सरकार को घेरते हुए कहा, ‘भाजपा गंदी राजनीति कर रही है और राष्ट्र को हिंसा की आग के हवाले कर दिया है।

 

बच्चों के खिलाफ हिंसा का कोई भी कारण बड़ा नहीं हो सकता है। हिंसा और नफरत कमजोरी के हथियार हैं।’ इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि कोई भी फिल्म भावनाओं को आहर करने वाली नहीं बननी चाहिए। उधर भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा है कि पद्मावत पर राहुल गांधी स्टैंड क्यों नहीं ले रहे। वहीं, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि राम ने जो सजा रावण को दी, वही इन गुंडों को मिलनी चाहिए। ऐसे में पद्मावत ने अब सियासी चोला भी पहन लिया है, जिस कारण बैंक वोट के आगे सभी पार्टियां परास्त होती दिख रही हैं।

रोमांटिक सीन का विरोध

कालवी ने कहा कि सेंसर बोर्ड के न्योते पर जिन लोगों ने यह फिल्म देखी है, उन्होंने बताया कि ‘पद्मावत’ में अलाउद्दीन खिलजी व रानी पद्मावती के स्वप्न दृश्य हैं। हम चाहते हैं कि फिल्म में दोनों के ऐसे दृश्य और रोमांटिक सीन नहीं हों। हालांकि मीडिया स्क्रीनिंग में फिल्म देखने के बाद कई समाचार पत्रों और पत्रकारों ने अपनी समीक्षा में ऐसे किसी भी दृश्य का जिक्र नहीं किया है।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *